नवरात्री स्पेशल मेहँदी – आसान गोल टिक्की मेहँदी, New Mehndi trick, Navratri/Karwachauth Mehndi

Spread the love

प्रिय दोस्तों / सखियों नमस्कार,

शादियों के मौसम मतलब खूब सारे नए गहनों, कपड़ों को खरीदने का एक बहाना होता है। इन्हीं शादियों के मौसम में मेहंदी की भी खूब मांग होती है। घर की शादी हो या दोस्तों की शादी हो या पड़ोसियों की शादी हो जब तक खूब अच्छे कपड़े हमारे शरीर पर ना हो तब तक हमें कोई भी समारोह अच्छा नहीं लगता है।

खूब अच्छे कपड़ों के साथ खूब अच्छी मेहंदी हमारे हाथों में नई जान ला देती है। जब तक हाथों पर खूबसूरत मेहंदी ना हो तब तक हम शादी का मजा भी ठीक से नहीं ले पाते हैं। शादी में तो मेहंदी का एक समारोह अलग बना दिया गया है जिसमें ढेर सारी महिलाएं, लड़के लड़कियां आते हैं तथा गीत-संगीत का रंगा – रंग कार्यक्रम आयोजित किया जाता है। लोग नाचते गाते हैं और वहां पर मौजूद सभी लोगों के हाथों में भर भर के मेहंदी लगाई जाती है। इतनी बड़ी संख्या में लोगों को मेहंदी लगाने के लिए मेहँदी डिज़ाइन बनाने वाले लड़कियो और लड़को को बुलाया जाता है।

ज्यादातर लड़कियां बेल की मेहंदी लगवाना पसंद करती हैं और औरतें पूरे हाथों को भर के मेहंदी लगवाना पसंद करती हैं। दुल्हन के श्रृंगार (Dulhan Mehandi) में हाथ व पैर में खूब घनी मेहंदी लगाई जाती है। इस मौके पर जो लड़किया, लड़के वहां मौजूद होते हैं सबको मेहँदी लगाई जाती है। लड़कियां अरेबिक मेहंदी लगवाना पसंद करती हैं वहीँ पर औरते भर – भर के हाथो को मेहँदी लगवाती हैं।

कुछ लड़के मेहंदी की बेल बूटे इत्यादि हाथों के बाजू पर बनवाना पसंद करते हैं। एक टैटू की तरह बाजू पर इनके डिजाइन बहुत अच्छी लगती है। इस तरह से मेहंदी की रात का जो समारोह होता है। वह बहुत ही हर्ष व उल्लास के साथ मनाया जाता है। इस समारोह की लोग वीडियोग्राफी भी करवाते हैं। लोगों में मेहंदी की रात को मनाने की अपनी अपनी अलग-अलग योजना होती हैं। आज हम आपको हथेली पर बनने वाली अरेबिक बेल (Arabic Mehandi Design) बताने जा रहे हैं। यह एक बिल्कुल कम समय में लगने वाली नई डिजाइन (New Mehndi Design) है, आइए देखते हैं कि यह कैसे लगाई जाएगी –

Front Hand Mehandi Design हथेली की बेल लगाने की विधि

  • हाथ की हथेली के बीच में कलाई पर लकीरे बना लीजिए। तीनों लकीरे आपको महीन महीन छोटे छोटे गोले बनाने है। नीचे की लकीर पर आपको महीन – महीन, घने, छोटे गोले बनाने होंगे। अब इन पर महीन, घने, छोटे गोले एक बार और बना लीजिए।
  • अब गोले वाली लकीर पर कम घूमी हुई चकरी बना लीजिए। अब इस चकरी पर एक लकीर और बना लीजिए। लकीर और चकरी के बीच जो जगह बची है। उसमें हिना भर दीजिए। अब दो पतली लकीरें और बना लीजिए। आखिरी लकीर पर बहुत महीन गोले वाली डिजाइन बना लीजिए।
  • अब इस गोले पर गोल आकृति वाली पंखुड़ियां बना लीजिए। अब इन पंखुड़ियों के अंदर हिना भर दीजिए। अब छोटी उंगली की तरफ कलाई की ओर धनुषाकार डिजाइन बना लेंगे। यह लकीर बीच वाली उंगली के ऊपर तक बनानीहै।
  • अब इस लकीर पर बाएं ओर महीने छोटे गोले बना लीजिए। अब इस लकीर पर पंखुड़ियों को बना लीजिए। अब पंखुड़ियों में छायांकन कर दीजिए। छायांकन के ऊपर बड़ी मोटी गोलियां बना लीजिए।
  • अब इन पंखुड़ियों के किनारे मोटाई कर लीजिए। अब लकीर के दाहिनी ओर बड़ी गोल टिकियों को बना लीजिए। अब सबसे छोटी उंगली पर भी एक ऐसी लकीर बनाएं। यह लकीर नीचे की तरफ एक आधा गोला बना लीजिए।
  • अब इस लकीर पर छोटी-छोटी, महीन – महीन, गोल टिक्कियां बना लीजिए। अब इस लकीर पर पंखुड़ियां बना लीजिए। अब इन पंखुड़ियों के अंदर छायांकन कर लीजिए। अब छायांकन वाले भाग पर बड़ी – बड़ी टिक्कियां दीजिए। अब पंखुड़ी का बाहरी किनारा मोटा बना लीजिए। अब आधे गोले के अंदर एक आधा गोला और बना लीजिए। यह गोला मोटाई में बना होना चाहिए। अब इस गोले के अंदर गोलाई में मोटी गोल टिकिया बना लीजिए।

इस तरह आपकी हथेली की बेल पूरी होती है।

धन्यवाद, आपका दिन मंगलमय हो।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *